Tuesday, February 28, 2017

पुरी

इस यात्रा के बारे में शुरू से पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें–

समुद्र स्नान में 10.30 बज गये। वापस लौटे तो कमरे पर नहा–धोकर फ्रेश होने में 12 बज गये। अब चिन्ता थी पुरी के स्थानीय भ्रमण के लिए साधन खोजने की। चक्रतीर्थ रोड पर जगह–जगह आटो वाले खड़े–खड़े सवारियों का इन्तजार करते मिल रहे थे। कइयों से बात की तो पुरी के साधनों एवं उनके रेट का पता चला। पुरी में कहीं से भी कहीं जाने के लिए आटो मिल जायेंगे। इतना ही नहीं,जो दूरियां बसें एवं अन्य चारपहिया वाहन तय करते हैं,उनके लिए भी आटो उपलब्ध हैं। छोटे चारपहिया वाहनों का सिस्टम यहां बहुत कम है। सड़कें अच्छी हैं इसलिए आटो में भी कहीं जाने में कोई दिक्कत नहीं है। शहर के अन्दर लोकल दूरियों के लिए रिजर्व आटो रिक्शा का,50 रूपये से कम किराया सम्भवतः नहीं है। यह 70,80 या 100 रूपये से भी अधिक हो सकता है। मानव चालित रिक्शे भी उपलब्ध हैं जिनका रेट भी आटो रिक्शा वालों के लगभग बराबर है।
पुरी के स्थानीय मन्दिरों का दर्शन कराने के लिए रिजर्व आटो रिक्शा का रेट 350 रूपये है। मोलभाव किया तो 300 में बात पक्की हो गयी और लगभग 1 बजे हम आटो रिक्शा में सवार हो गये। सबसे पहले पहुंचे यहां के प्रसिद्ध गुण्डीचा मन्दिर जो बस स्टैण्ड के पास है। गुण्डीचा,जगन्नाथ मन्दिर का निर्माण करवाने वाले राजा इन्द्रद्युम्न की रानी का नाम था। आषाढ़ शुक्ल पक्ष की दि्वतीया तिथि को आरम्भ होने वाली पुरी की प्रसिद्ध रथयात्रा में भगवान जगन्नाथ अपने बड़े भाई बलभद्र एवं बहन सुभद्रा के साथ इसी गुण्डीचा मन्दिर में आते हैं और त्रयाेदशी तिथि तक यहीं रहते हैं। गुण्डीचा मन्दिर बलुआ पत्थर का बना है और इसकी दीवारों और मूर्तियों की बनावट मनमोहक है। परन्तु मन्दिर के अन्दर पण्डों की लूट बहुत ही भयानक है। हम तो कहीं नहीं लुटे लेकिन अगर कोई धर्मभीरू व्यक्ति हो तो ये उसे कंगाल बना देंगे।
जगन्नाथ मन्दिर के आस–पास की गलियों में रहने और खाने के सस्ते विकल्प उपलब्ध हैं। महंगे चाहिए तो समुद्री बीच पर आसानी से मिल जायेंगे। हम उत्तर भारतीय,खाने के सस्ते विकल्पों के लिए ठेला संस्कृति के अभ्यस्त हैं। लेकिन पुरी में पुलिस ने इन ठेले वालों को भगा दिया है और इनकी जगह पर इन ठेले वालों ने साइकिल को अपना लिया है।
गुण्डीचा मन्दिर के बाद आटोवाला हमें एक और छोटे से मन्दिर में ले गया। इस मन्दिर में स्थानीय लोगों की भारी भीड़ थी जो विविध प्रकार के पूजा–अनुष्ठान करने–कराने में व्यस्त थे। इस मन्दिर में देवनागरी लिपि में कुछ भी लिखा हुआ नहीं मिला,यहां तक कि मन्दिर का नाम भी केवल उड़िया भाषा में ही लिखा था। इस मन्दिर के पश्चात हम कुलदानन्द ब्रह्मचारी आश्रम में पहुंचे लेकिन इसका गेट ही बन्द था और पूछने पर पता चला कि यह शाम को खुलेगा। फिर हम आगे बढ़ गये। इसके पश्चात थोड़ी ही दूर बाद नरेन्द्र टैंक है। यह टैंक या तालाब 15वीं सदी में बनाया गया था। इसके बीच में एक छोटा सा द्वीप है जिसपर एक मन्दिर स्थित है। मन्दिर में प्रवेश हेतु टिकट भी लेना पड़ता है।

अगला पड़ाव था लोकनाथ मन्दिर। यहां कैमरा प्रतिबन्धित था। कैमरे पर प्रतिबन्ध लगने पर मुझे बहुत गुस्सा आता है। मुझे मन्दिरों से बहुुत लगाव नहीं है लेकिन प्राचीन मन्दिरों की शिल्पकला और ऐतिहासिकता मुझे उनकी तरफ खींच लाती है। खैर,कैमरा जमा करके मन्दिर के अन्दर गया और परिक्रमा करके लौट आया। संगीता ने अन्दर जाकर दर्शन किया। लोकनाथ मन्दिर के पास एक पेड़ में आग लग गई थी जिसमें से बहुत तेज लपटें निकल रहीं थीं।
आटाे में चलते,चाय और पानी पीते लगभग 2.30 घण्टे में हमारी यह यात्रा पूरी होने वाली थी। हमारी इस लघु आटो यात्रा का अन्तिम पड़ाव था श्री जगन्नाथ मन्दिर। दूर से ही इसे देखकर मन कह उठा–
‘भव्य और विशाल‘
इसे श्री मन्दिर भी कहा जाता है और यह वास्तव में श्री मन्दिर है। आज के श्री मन्दिर का निर्माण 12वीं शताब्दी में गंग वंश के राजा अनंगभीमदेव के द्वारा कराया गया था। 800 साल पुराना यह मन्दिर कलिंग स्थापत्य और शिल्पकला का अप्रतिम उदाहरण है। यह मन्दिर चारों तरफ से दीवारों से घिरा हुआ है जिनमें प्रवेश के लिए चारों तरफ द्वार बने हुए हैं। जगन्नाथ धाम भारत के चार पवित्र धामों में से एक है। इन चार धामों के बारे में यह कहा जाता है कि बद्रीनाथ भगवान की समाधि का स्थान,रामेश्वर नहाने का स्थान,द्वारका सोने का स्थान तथा जगन्नाथ पुरी खाने का स्थान है। जगन्नाथ मन्दिर में भी कैमरा प्रतिबन्धित है लेकिन चारदीवारी के बाहर से मन्दिर के ऊपरी भागों का फोटो खींचा जा सकता है।

जगन्नाथ मन्दिर के धार्मिक महत्व ने इसे भीड़–भाड़ वाली जगह एवं पण्डे–पुजारियों के लिए कमाई का जरिया बना दिया है। अगर मन्दिर के इस धार्मिक पक्ष को अलग कर ऐतिहासिक,पुरातात्विक एवं शिल्प की दृष्टि से इसे देखा जाय तो यह आंखों में चकाचौंध पैदा कर देता है। भुवनेश्वर का लिंगराज मन्दिर इस दृष्टि से मुझे बहुत सुन्दर लगा क्योंकि यह धार्मिक भीड़ वहां इतनी अधिक नहीं थी।
मन्दिर के अन्दर के अन्य भवन भी शिल्पकला के बेजोड़ नमूने हैं। लेकिन पण्डों–पुजारियों की इमरजेन्सी चारों तरफ है। थोड़ा सा भी जाल में फंसे तो गये काम से। पाकेट ढीला होना ही है। पुजारियों के साथ साथ कहीं–कहीं लंगूरों का आतंक भी है। मन्दिर के अन्दर भगवान जगन्नाथ से सम्बन्धित एक म्यूजियम भी है जिसमें 5 रूपये के टिकट पर प्रवेश लिया जा सकता है। मन्दिर के अन्दर प्रसाद वितरण की कई तरह की व्यवस्थाएं हैं। मन्दिर के ट्रस्ट की तरफ से दिये जाने वाले आधिकारिक प्रसाद का रेट ऐसा है कि उसे खरीदना सबके बस की बात नहीं है। न्यूनतम 300 रूपये से लेकर 10–15 हजार या उससे भी ऊपर। इसके अलावा मन्दिर के अन्दर पण्डों द्वारा भी प्रसाद बेचा जाता है और मन्दिर के बाहर ठेले वाले दुकानदारों द्वारा भी जो काफी सस्ता होता है।
मन्दिर में दर्शन करने में हमें शाम हो गयी और अब हमें चक्रतीर्थ रोड स्थित अपने होटल लौटना था। दूरी अनुमानतः 2.5 किमी रही होगी लेकिन आटो रिक्शा का किराया पूछा तो 100 रूपये मालूम हुआ। हालांकि इसमें मोलभाव की गुंजाइश थी। अब आपकी मर्जी,पैदल चलना है तो चलिए नहीं तो 100 रूपये दीजिए। और हां,एक और बात भी ध्यान देने की है और वह ये कि यहां के रिक्शा और आटो रिक्शा वाले भी वैसा ही कुछ कर सकते हैं जैसा कि यूपी और बिहार के। तो सावधानी आवश्यक है।

गुण्डीचा मन्दिर
बलुआ पत्थर से निर्मित गुण्डीचा मन्दिर दीवारों का सौन्दर्य

गुण्डीचा मन्दिर का मुख्य द्वार




नरेन्द्र तालाब


नरेन्द्र तालाब के बीच में स्थित द्वीप पर बना मन्दिर

लोकनाथ मन्दिर का सिंहद्वार

लोकनाथ मन्दिर के पास स्थित एक पेड़ में आग लगी थी जिसे बुझाने के फायर ब्रिगेड की गाड़ी बुलाई गई थी
साइकिल पर चलती फिरती दुकान

मुण्डन संस्कार में गाजे बाजे की धूम
जगन्नाथ मन्दिर

मन्दिर का पूर्वी द्वार


पुरी बीच पर सूरज की विदाई का दृश्य–


होटल की बालकनी मेंं–



ये कैसी दोस्ती–


चक्रतीर्थ रोड पर जिस होटल में हम ठहरे थे उसके आस–पास स्थित कुछ अन्य मन्दिर–



अगला भागः भुवनेश्वर

सम्बन्धित यात्रा विवरण–

2 comments:

  1. बहुत ही उम्दा..... अब तो कही जाने से पहले ये ब्लॉग घूम लेना सही रहेगा... गाइड है पूरी

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद भाईजान। इसी तरह पढ़ते रहिए और प्रोत्साहन करते रहिए। कुछ कमी वगैरह हो तो उसको भी सुधारते रहिए। आभारी रहूँगा।

      Delete