Friday, January 19, 2018

अल्मोड़ा

20 अक्टूबर
त्योहारों का आनन्द घर पर तो सभी लेते हैं। लेकिन ट्रेन में इसका मजा ही कुछ और होता है। और उस पर भी जब दुनिया घूमने का जुनून सिर पर सवार हो तो फिर कहाँ का त्योहार और कहाँ की व्यस्तता। ये तो वो तराना है जो नींद में भी सपने बनकर गूँजता रहता है। घुमक्कड़ी में त्योहार मनाने से कम मजा आता है क्याǃ तो मेरे मन में भी घुमक्कड़ी का तराना ऐसा गूँजा कि दीपावली के दिये जलाने के बाद अगले दिन मैं उत्तराखण्ड के प्रसिद्ध शहर अल्मोड़ा के लिये निकल पड़ा।
वैसे प्लानिंग तो काफी पहले की थी। अल्मोड़ा जाने के लिए मैंने हावड़ा से काठगोदाम जाने वाली बाघ एक्सप्रेस में रिजर्वेशन कराया था। मेरा रिजर्वेशन देवरिया से था। दीपावली के अगले दिन का समय था। रास्ते में बस या अन्य गाड़ियां मिलने में दिक्कत होने का अंदेशा था तो घर से देवरिया तक की 75 किमी की दूरी मैंने बाइक से ही नाप दी।

Friday, January 12, 2018

दतिया–गुमनाम इतिहास

इस यात्रा के बारे में शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें–

छठा दिन–
आज मेरी इस यात्रा का छठा और अन्तिम दिन था। रात में झाँसी से मुझे बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस पकड़नी थी। इस यात्रा का मेरा अन्तिम पड़ाव था– दतिया। यहाँ आने से पहले मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि दतिया जाऊँगा लेकिन पीताम्बरा पीठ तथा वीर सिंह पैलेस का आकर्षण मुझे यहाँ खींच लाया। सुबह 7 बजे होटल से चेकआउट करके अपना बैग मैंने होटल में ही जमा कर दिया और झाँसी बस स्टेशन के लिए निकल पड़ा। दतिया के लिए मुझे बस मिली 7.45 पर। 30 किमी की दूरी लगभग एक घण्टे में पूरी हो गयी। दतिया का बस स्टेशन शहर से कुछ बाहर की तरफ ही है। बस से उतर कर मैं पैदल ही चल पड़ा।

Friday, January 5, 2018

झाँसी–बुन्देले हरबोलों से सुनी कहानी

इस यात्रा के बारे में शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें–


दिन के 1.45 बज रहे थे। अब मेरी आेरछा गाथा समाप्त होने को थी। मैं किसी स्वप्नलोक से बाहर निकल रहा था। यात्रा वास्तविकता में ही हो सकती है,सपने में नहीं। अब मैं बुन्देले हरबोलों से कहानी सुनने झाँसी जा रहा था। होटल से बैग लेकर बाहर निकला तो बिना मेहनत के झाँसी के लिए आटो मिल गयी। आधे घण्टे में ही झाँसी बस स्टेशन पहुँच गया। पहले रात में रूकने की व्यवस्था करनी थी क्योंकि बैग भी वहीं सुरक्षित रहेगा। इसे हाथ में टाँगकर कहाँ मारा–मारा फिरूंगा। वैसे तो ओरछा में भी रूककर झाँसी घूमा जा सकता है लेकिन थोड़ा झाँसी के बारे में जानने के लिए यहाँ भी रूकना जरूरी है।